ऑप्शन ट्रेडिंग क्या होती है |Why Option Trading is Important |

ऑप्शन ट्रेडिंग एक ऐसी ट्रेडिंग जो नए इनवेस्टर के लिए भले ही उतनी अच्छी ना मानी जाती हो लेकिन इसका काफी महत्व है इसलिए आज मैं आपको बताऊँगा ऑप्शन ट्रेडिंग क्या होती है |Why Option Trading is Important |

नमस्कार दोस्तों!!!!

शेयर मार्केट की इस सीरीज में मैं राज आप सभी का एक बार फिर से स्वागत करता हूं और यकीन दिलाता हूं कि जिस विषय के बारे में जानने के लिए आप इस साइट पर आए हैं उसका जवाब आपको अवश्य मिलेगा |

तो चलिए शुरू करते हैं :-

ऑप्शन ट्रेडिंग क्या होती है :-

ऑप्शन ट्रेडिंग में trader स्टॉक्स को बिना पूरा पैसा दिए भी स्टॉक को खरीद वा बेच सकता है ऑप्शन ट्रेडिंग इस चीज की सुविधा प्रदान करती है |

साधारण शब्दों मे ऑप्शन ट्रेडिंग में Trader को बिना शेयर्स का पूरा पैसा दिए प्रीमियम के आधार पर ट्रेडिंग करने का मौका मिलता हैं। ऑप्शंस एक तरह का कॉन्ट्रेक्ट होता है जो की एक स्टॉक या इंडेक्स से जुड़ा हुआ होता है |

ऑप्शन ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है :-

ऑप्शन ट्रेडिंग 02 तरह की होती है जिसके आस पास ही ऑप्शन ट्रेडिंग घूमती है जो निम्नलिखित है:-

1. कॉल ऑप्शन
2. पुट ऑप्शन

1.कॉल ऑप्शन (Call Option)

कॉल ऑप्शन को हम CE से दर्शाते हैं। यह एक निश्चित कीमत तय करती है जिसके अंतर्गत आप निश्चित स्टॉक्स खरीद सकते हैं |



किसी इंडेस्क्स और स्टॉक की कीमतों के बढ़ने का अनुमान होने पर कॉल ऑप्शन को खरीदना चाहिए। ज्यों मार्केट में मुख्य इंडेस्क्स और स्टॉक की कीमतें बढ़ती हैं वैसे ही कॉल ऑप्शन की कीमत भी बढ़ जाती है।

2.पुट ऑप्शन (Put Option) – पुट ऑप्शन को पुट यूरोपियन (PE) से दर्शाया जाता है।

पुट ऑप्शन हमें एक निश्चित मूल्य निर्धारित करती है जिसके अंतर्गत हम एक निश्चित संपत्ति को बेच सकते हैं। मार्केट के इंडेक्स या स्टॉक की कीमतों में गिरावट की संभावना होने पर पुट ऑप्शन खरीदना बेहतर माना जाता है |

मान लो आपने एक पुट ऑप्शन खरीदा और उसकी कीमत आपके द्वारा बताए गए Price तक गिर गई तो आप बहुत प्रॉफिट कमा सकते हैं |

ऑप्शन ट्रेडिंग में प्रयोग होने वाली टर्म :-
  • संचालन मूल्य :संचालन मूल्य वह मूल्य है जिस पर किसी ऑप्शन की बिक्री या खरीदारी की जाती है।
  • प्रीमियम (Premium): यह वह राशि होती है जो एक ऑप्शन को खरीदने या बेचने के लिए आपको भुगतान करनी पड़ती है।
  • ऑप्शन ग्रीक्स (Option Greeks): ये वो पैरामीटर हैं जो ऑप्शन की प्राइस और ऑप्शन की गतिविधि को मान्यता देते हैं। ये ग्रीक्स मुख्यतः वेगा, थीटा, रो, गामा और डेल्टा नाम से जाने जाते हैं और ऑप्शन Trading में जरूरी होते हैं।
  • समय सीमा (Expiration Date): एक ऐसी तारीख जब एक ऑप्शन की मान्यता समाप्त होती है और Option का अधिकार समाप्त हो जाता है।
  • मार्जिन (Margin): यह एक निश्चित राशि होती है जो निवेशक को उचित माने गए मार्जिन या सुरक्षा राशि के बीच के संबंध को दर्शाता है जो ट्रेडर को अपनी खरीदारी या बिक्री (buy or sell) की अनुमति देती है।
  • निवेशक (Trader): निवेशक मेरे और आपकी तरह होते हैं जो ऑप्शन ट्रेडिंग में ऑप्शन को खरीदते या बेचते हैं |
  • विनिमय (Exchange): यह एक तरीका है जिसके माध्यम से हम ऑप्शन को खरीदते और बेचते हैं। एक्सचेंज मार्केट में ऑप्शन Trade किए जाते हैं और इन एक्सचेंज पर ऑप्शन की कीमतें पहले से निर्धारित होती हैं।
  • ट्रेडिंग स्ट्रैटेजी (Trading Strategy): यह निवेशक द्वारा बनाई गयी योजना होती है जिसका प्रयोग ट्रेडर ऑप्शन को खरीदने और बेचने के लिए करते हैं ।

आप पढ़ रहे हैं ऑप्शन ट्रेडिंग क्या होती है |Why Option Trading is Important |

ऑप्शन ट्रेडिंग के मुख्य फायदे :-

सीमित रिस्क (Limited Risk): ऑप्शन ट्रेडिंग जो है एक सीमित रिस्क मैनेजमेंट ट्रेडिंग है जो निवेशक के रिस्क को सीमित करने में बहुत मदद करता है।

हमारे जैसा ट्रेडर ऑप्शन ट्रेडिंग में पूर्व-निर्धारित मार्जिन अमाउंट का उपयोग करता है जो उन्हें अतिरिक्त नुकसान से बचाता है।

लचीलापन (Flexibility): ऑप्शन ट्रेडिंग हमें अलग-अलग ऑप्शन को चुनने की पूरी रियायत देती है, और हमारी इन्वेस्टमेंट स्ट्रैटिजी को लचीला बनाती है।

साइड इंकम आय के साधन (Alternative Income): ऑप्शन ट्रेडिंग नए पुराने सभी Trader को साइड इनकम के साधन प्रदान करती है। कोई भी ट्रेडर यहां अपनी इच्छानुसार अधिक से अधिक लाभ या अधिकतम प्राप्ति के लक्ष्य पर इन्वेस्टमेंट कर सकता है|

समय की बेहतर व्यवस्था(Quality of Timing): ऑप्शन ट्रेडिंग में निवेशक को समय की कीमत का बहुत ध्यान रखना पड़ता है। समय हमें यहां अलग-अलग समय सीमाओं पर ऑप्शन खरीदने और बेचने की अनुमति देती है जैसे कि दिन या महीने के अंतराल पर, जो ट्रेडर को ट्रेडिंग की समय सीमा की निगरानी करने में काफी मदद करता है

ऑप्शन ट्रेडिंग के नुकसान :-
  • यह Equity Trading से बिल्कुल अलग होता है |
  • इसमे रिस्क ज्यादा होता है |
  • नए निवेशक को इसमें रिस्क नहीं लेना चाहिए |
  • इसमे आप बहुत कम समय मे बहुत पैसा डूबा सकते हो
  • Put option नए निवेशकों की समझ मे नहीं आता |

इसके अलावा अगर आप शिक्षा से संबंधित सीखना चाहते हैं तो इन्हें देखें :-

Dear Sir

Physics Wallah

Khan sir

ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए कितना पैसा चाहिए?

ऑप्शन buy के लिए बिल्कुल कम पैसों से भी शुरू कर सकते हैं लेकिन ऑप्शन सेल के लिए आपको खूब पैसा चाहिए |

ट्रेडिंग के 5 प्रकार कौन से हैं?

1.Intraday trading
2.Scalping trading
3.Swing trading
4. Positional Trading
5. Arbitrage Trading

भारत में कितने ऑप्शन ट्रेडर हैं?

50 लाख से अधिक 2023 तक |

शेयर बेचने के कितने दिन बाद पैसा मिलता है?

शेयर खरीदने के 02 दिन बाद पैसा अकाउंट में आता है |

क्या 5 पैसा ट्रेडिंग के लिए अच्छा है?

जी हां |
5 पैसा ट्रेडिंग के लिए अच्छा प्लेटफॉर्म है |

सबसे बेस्ट ट्रेडिंग एप कौन सा है?

Zerodha
Upstox
Angel one

Related Post :-

शेयर बाजार में ICO क्या होता है |Why Initial Coin Offering is Important |

ब्रोकर क्या होता है |Best Broker in india

रिलायंस इंडस्ट्रीज :-सम्पूर्ण जानकारी

Top Banking Sector Stocks in India

Demat Account क्या होता है?

स्टॉक्स का टेक्निकल एनालिसिस कैसे करें?

Best Perimeter For Analyzing a Compnay In Hindi|

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Scroll to Top