What is Face Value and Book Value in Hindi

अगर आप शेयर बाजार के बारे मे थोड़ी सी बी जानकारी रखते हैं तो आपने face value और बुक वैल्यू का नाम जरूर सुना होगा तो चलो शुरू करते हैं What is Face Value and Book Value in Hindi

नमस्कार दोस्तों!!!!!

मैं आपका अपना राज ठाकुर आपका अपने इस writerraaz.com की वेबसाइट पर हार्दिक स्वागत हूं

जैसा कि आप शीर्षक से ही जान गए होंगे कि इस पोस्ट में हम किसी भी कंपनी की फेस वैल्यू और बुक वैल्यू के बारे मे बात करने वाले हैं |

Face Value :-

फेस वैल्यू एक ऐसा मूल्य होता हैं जो किसी कंपनी के द्वारा शेयर जारी करते समय निर्धारित किया जाता हैं। इसे share Par Value के नाम से भी जाना जाता हैं। फेस वैल्यू को हम निर्धारित मूल्य भी कहते हैं।



जब भी कोई नयी कंपनी पहली बार अपने शेयर जारी करती हैं तो वो कंपनी सबसे पहले अपने शेयर की Face value निर्धारित करती हैं। ये फेस वैल्यू एक शेयर की नाममात्र की वैल्यू होती हैं। क्योंकि आने वाले समय ज्यादातर यह value बढ़ती ही जाती है |



फेस वैल्यू 1, 2, 3,5,7, 10 यहाँ तक की 100 रुपये भी हो सकती हैं। ये पूरी तरह से कंपनी पर निर्भर करता है |

Face value से जुड़े महत्वपूर्ण पॉइंट्स :-
  • फेस वैल्यू को ही Per वैल्यू कहते हैं। फेस वैल्यू को शॉर्ट में FV भी कहा जाता हैं।
  • फेस वैल्यू कीसी भी कंपनी के एक शेयर का एकाउंटिंग मूल्य होता हैं। तथा हर एक कंपनी की फेस वैल्यू निर्धारित करना अनिवार्य है |
  • यदि किसी कंपनी का कोई शेयर अपनी फेस वैल्यू से ज्यादा की कीमत पर बिक रहा हैं तो ऐसे शेयर प्राइस को Premium value कहा जाता है |
  • वहीं अगर किसी कंपनी का शेयर फेस वैल्यू से कम मूल्य पर बिक रहा हैं तो उस शेयर प्राइस को discounted value कहा जाता है |
Face value का मह्त्व :-


1. डिविडेंड लेने व देने के लिए – डिविडेंड की counting के लिए फेस वैल्यू बहुत महत्वपूर्ण होता हैं। फेस वैल्यू को मुख्य आधार मानकर ही डिविडेंड घोषित किया जाता हैं।

यदि किसी कंपनी के शेयर की फेस वैल्यू ₹15 हैं और उस कंपनी ने 100% का डिविडेंड घोषित किया हैं तो कंपनी एक शेयर पर ₹100 का डिविडेंड देगी।


2.स्टॉक स्प्लिट के लिए – यदि कोई भी कंपनी स्टॉक स्प्लिट लेकर आती हैं तो स्प्लिट के अनुपात में फेस वैल्यू में भी बदलाव आता हैं।



जैसे मान लीजिए किसी कंपनी के शेयर की मार्केट प्राइस ₹1,0000 हैं और उसकी फेस वैल्यू ₹10 हैं। यदि कंपनी एक शेयर को 2 शेयर में स्प्लिट (split) करने का निर्णय करती हैं तो उस शेयर की फेस वैल्यू भी ₹5 हो जाएगी।


3. कई बार फेस वैल्यू का प्रयोग शेयर प्रीमियम कैलकुलेट करने के लिए भी किया जाता हैं। 4. शेयर बोनस देने के लिए भी face वैल्यू को ही देखा जाता है |



क्या शेयर की फेस वैल्यू चेंज हो सकती हैं?

आमतौर पर शेयर की face value में कोई बदलाव नहीं आता है लेकिन हाँ यदि स्टॉक split करते हैं तो शेयर की face value में भी बदलाव आ सकता है |

आप पढ़ रहे हैं फेस वैल्यू और बुक वैल्यू क्या होती है?

बुक वैल्यू :-

बुक वैल्यू किसी भी कंपनी के शेयर का वास्तविक मूल्य होता है।

किसी कंपनी की कुल ज़िम्मेदारियों तथा हर तरह के खर्चे व कर्जे को चुकाने के बाद जो कंपनी के पास पैसा बचता है उसे बुक वैल्यू कहते हैं |

WRITERRAAZ.COM

मुख्यतः सभी कंपनियों के शेयर उसकी बुक वैल्यू से प्रीमियम प्राइस पर ही ट्रेड करते है।

उदाहरण : -वर्तमान में रिलायंस का एक शेयर 2347 रुपये पर Trade कर रहा है और रिलायंस की बुक वैल्यू 1168 रुपये है। जिसका मतलब है कि अगर आज रिलायंस कंपनी बंद हो जाये तो कंपनी के पास उसके प्रति एक शेयर के बदले 1168 रुपये होंगे।



बुक वैल्यू का क्या महत्व है –( Importance )


अगर आप एक अच्छे निवेशक बनना चाहते हैं तो आपको कंपनी के आर्थिक स्थति कैसी है क्या कंपनी फाइनेंसियल मजबूत है इनके बारे मे जानना बेहद जरूरी है जोकि आप कंपनी की बुक वैल्यू से पता लगा सकते हो |

जिस कंपनी की बुक वैल्यू जितना ज्यादा होगी वो कंपनी उतना ही बेहतर मानी जाती है |

बुक वैल्यू कैसे मापते हैं –( How To Calculate shares Book Value)

किसी भी कंपनी के शेयर की बुक वैल्यू ज्ञात करने के लिए उसकी शेयर Capital और जनरल रिजर्व को जोड़ कर उसमें कुल शेयर की संख्या मे भाग देकर प्राप्त किया जा सकता है।


बुक वैल्यू = कुल सम्पति – कुल कर्ज

बुक वैल्यू प्रति शेयर क्या है :-



किसी शेयर की करंट मार्केट प्राइज और बुक वैल्यू के बीच के आनुपातिक अंतर को बुक वैल्यू प्रति शेयर कहते है। जब हम किसी शेयर के वर्तमान मूल्य को देखते हैं तो इससे साफ़ पता चलता है कि कंपनी प्रति शेयर कितना मुनाफा करा रहीं है |


जब शेयर की मार्किट प्राइस में बुक वैल्यू का भाग दिया जाता है तो जो राशि निकल कर आती है उसे BVPS (Book Value Per Share) कहते है।


जैसे रिलायंस के एक शेयर की वर्तमान मार्किट प्राइस 2346 रुपये है और बुक वैल्यू 1100 रुपये है तो उसका BVPS (2346/ 1100)= 2.1309 होगा।


Face Value और book value में अन्तर :-


बुक वैल्यू ऐसा मूल्य होता हैं जो कंपनी के डूब जाने पर भी कंपनी द्वारा अपने शेयरहोल्डर्स को मिलता हैं। बुक वैल्यू को कंपनी की कुल एसेट में से कुल दायित्वों को निकालकर कुल आउटस्टैंडिंग शेयर्स का भाग लगाकर निकाला जाता हैं।



वहीं फेस वैल्यू किसी शेयर का नाममात्र का मूल्य होता है जो की निश्चित होता हैं। वहीँ बुक वैल्यू नियमित रूप से बदलने वाला मूल्य माना जाता हैं।



बुक वैल्यू का निवेशकों के लिए काफी महत्व होता हैं। बुक वैल्यू ही हमें बताती हैं की क्या कंपनी की शेयर प्राइस, कंपनी की बुक वैल्यू को सही से आत्मनिर्भर बनाती हैं या नहीं।

कंपनी के उतार चढाव भी बुक वैल्यू को प्रभावित कर सकते हैं लेकिन face वैल्यू में इससे कोई बदलाव नहीं आता |

शेयर मार्केट सीखने की सबसे बेहतर किताबें जो आपको शेयर बाजार का मास्टर बना देगी:-

शेयर मार्केट के सक्सेस मंत्र

फेस वैल्यू और बुक वैल्यू क्या होती है?

41 Tips For success in share market

फेस वैल्यू और बुक वैल्यू क्या होती है?

उम्मीद करता हूं आपको ये पोस्ट What is Face Value and Book Value in Hindi पसंद आयी होगी |

कौन सी ट्रेडिंग सबसे ज्यादा लाभदायक है?

Intraday trading जिसमें बहुत कम समय मे आप बहुत सारा पैसा कमा सकते हो

सबसे सुरक्षित ट्रेडिंग कौन सी है?

Delivery Trading
जिसमें आप स्टॉक को लंबे समय तक होल्ड करके रख सकते हो जिससे हार की संभावना कम हो जाती है |

शेयर मार्केट में सबसे अच्छी कंपनी कौन सी है?

1. RELIANCE
2. TATA
3. ASIAN PAINTS
4. HDFC
5. INFOSYS

नंबर वन ट्रेडिंग ऐप कौन सा है?

Zerodha
इसके अलावा कुछ बेहतर app
1. Upstox
2. Groww
3. Angel one

क्या मोबाइल से ट्रेडिंग कर सकते हैं?

जी हां मोबाइल से ट्रेडिंग कर सकते हैं |
उसके लिए बेस्ट प्लेटफॉर्म है
1. ZERODHA
2. Upstox
3. 5 Paisa

ट्रेडिंग सीखने में कितना समय लगता है?

शेयर मार्केट सीखने की ना कोई उम्र है ना कोई खास समय
आप Share Market जितना सीखेंगे उतना बेहतर बनते जाएंगे |

कितने भारतीय शेयर बाजार में ट्रेडिंग करते हैं

लगभग 10 करोड़ जोकि भारत की कुल जनसंख्या का 4% के आसपास है |

अन्य भी पढ़ें :-

P/B or P/E रेशियो क्या है?PB or PE Ratio in Hindi

Bullish OR Bearish Trend:-bullish और bearish मार्केट क्या होता है?

शेयर बाजार में ROE और ROCE क्या है ?

रिलायंस इंडस्ट्रीज :-सम्पूर्ण जानकारी

Reliance vs Tata Group में कौन बेहतर है?

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Scroll to Top