मार्केट कैपिटलाइजेशन क्या होता है |What is The Meaning of Market Capitalization |

आज के इस पोस्ट में आप शेयर बाजार से संबधित एक महत्वपूर्ण विषय के बारे में जानने वाले हैं जो है मार्केट कैपिटलाइजेशन क्या होता है |What is The Meaning of Market Capitalization |

नमस्कार दोस्तों!!!!

आप सभी का मेरी इस पोस्ट पर एक बार फिर से हार्दिक स्वागत है ओर में उम्मीद करता हूं कि आप आज मार्केट Capitalization के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी जरूर हासिल करके जाएंगे |

परिभाषा :-

मार्केट Capitalization किसी कंपनी के कुल मूल्य को दर्शाता है, जो उस वर्तमान समय के शेयर मूल्य और कंपनी के सभी बकाया शेयरों पर आधारित होता है।

For Example :-

 मान लीजिए किसी XYZ कंपनी का कुल Market Capitalization 500 करोड़ रुपये है, और अगर आप XYZ कंपनी की 100% हिस्सेदारी को खरीदने की योजना बना रहे हैं तो आपको उन्हें 500 करोड़ रुपये का भुगतान करना पड़ेगा। इसलिए साधारण शब्दों मे बाजार पूंजीकरण कंपनी के कुल मूल्य को कहते हैं।

Market Capitalization निकालने का फार्मूला :-

बाजार पूंजीकरण = मौजूदा शेयर मूल्य × बकाया शेयरों की कुल संख्या

हम सब ये भलीभांति जानते हैं कि शेयर मार्केट में शेयर प्राइस हमेशा बदलता रहता है, ऐसे मे अगर शेयर प्राइस डाउन जाता है तो market Capitalization भी कम हो जाती है |

फ्री फ्लोट मार्केट कैपिटलाइजेशन क्या है :-

फ्री फ्लोट मार्केट कैपिटलाइज़ेशन नाम से भले ही थोड़ा मुश्किल सा दिखता हो परंतु इसमे हम वर्तमान शेयर प्राइस को केवल उन्हीं शेयरों से गुणा करते हैं जो प्रेजेंट समय में नैशनल स्टॉक एक्सचेंज(NSE) या बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज( BSE ) पर ट्रेड हो रहे हो इस प्रक्रिया को ही फ्री फ्लोट मार्केट Capitalization कहा जाता है |

आप पढ़ रहे हैं मार्केट कैपिटलाइजेशन क्या होता है |What is The Meaning of Market Capitalization |

Market Capitalization के आधार पर कंपनियों के प्रकार :-
Large Cap Companies –

जैसा कि नाम से ही कुछ हद तक स्पष्ट हो जाता है वो कंपनिया जिनका बाजार पूंजीकरण ₹28000 हजार करोड़ या उससे ज्यादा होता है, उन कंपनियों को लार्ज केप की श्रेणी में रखा जाता है या उन्हें हम लार्ज कैप कंपनियां कहते हैं।

Top 3 Large Cap Companies:-

रिलायंस इंडस्ट्रीज. ₹ 17, 42,544 करोड़

Tata Consultancy. ₹ 11,61,840 करोड़

HDFC. ₹ 8,95,459. करोड़

Mid-Cap Companies –

 इस श्रेणी में वो कंपनिया आती हैं जिनका बाजार पूंजीकरण ₹8500 करोड़ से लेकर ₹28000 हजार करोड़ के बीच में होता है, इन्हें हम मिड-कैप कंपनियां कहते हैं।

ये mid cap कंपनिया कई बार हाई रिटर्न देती है तो कई बार थोड़ा रिस्की भी हो जाती है |

Top 3 Mid Cap Companies :-

Zomato. ₹ 63,778 करोड़

IRCTC. ₹ 53,192 करोड़

Yes Bank. ₹ 46,843 करोड़

Small Cap Companies –

 इस श्रेणी में उन कंपनियों को रखा जाता है जिनका बाजार पूंजीकरण ₹8500 करोड़ से कम होता है, उन्हें हम स्मॉल कैप कंपनियां कहते हैं।

ये कम्पनियां कई बार उम्मीद से बेहतर रिटर्न देती है तो कई बार बिल्कुल अर्श से फर्श पर भी ला देती है इसलिए इनका चुनाव हमेशा सम्भल के और पूरी रिसर्च के साथ करना चाहिए |

Top 3 Small Cap Companies :-

HMT. ₹ 3564 करोड़

Golden Tobacco. ₹ 75 करोड़

BPL. ₹ 302 करोड़

Market Capitalization क्यों महत्वपूर्ण है –
  • कंपनी की आर्थिक दृढ़ता देखने के लिए
  • कंपनी ने अब तक कितनी ग्रोथ की है वो देखने के लिए
  • कंपनी में investment करने के लिए |
  • भविष्य की बेहतर योजनाओं के निर्माण के लिए |
  • कंपनी के ग्रोथ रेट और प्रॉफिट रेट को देखने के लिए |

अगर आप शेयर बाजार के अलावा case study पढ़ने में भी दिलचस्पी रखते हैं तो बेस्ट youtube चैनल है :-

Dhruv Rathee

Beer Biceps

Related Post :–

NSE और BSE क्या है?

इन्टरनेट ट्रेडिंग क्या होती है |What is Internet trading And its Importance |

ट्रेडिंग में सपोर्ट और रेजिस्टेंस क्या होता है |Why support and Resistance is Important for Beginners|

ऑप्शन ट्रेडिंग क्या होती है |Why Option Trading is Important |

शेयर बाजार में ICO क्या होता है |Why Initial Coin Offering is Important |

Top 50 Interesting Facts About Share Market In Hindi

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Scroll to Top