P/B or P/E रेशियो क्या है?PB or PE Ratio in Hindi

किसी भी कंपनी का शेयर खरीदने से पहले आपको ये जान लेना चाहिए कि आखिर P/B or P/E रेशियो क्या है? ये ratio काफी महत्वपूर्ण है जो आपको कोई स्टॉक चुनने में काफी मदद करता है |

PB Ratio:-

P/B ratio जिसका पूरा नाम प्राइस टू बुक वैल्यू रेशियो होता है |

यह किसी भी कंपनी के कुल संपत्ति को बेच देने और बाकि की सभी देनदारियों जिन्हें Liabilities कहते हैं उनको चूका देने के बाद कंपनी के पास जो भी पैसा बचता है उसे हम बुक वैल्यू कहते है.

बुक वैल्यू से उस शेयर की वैल्यू पता लगती है जो शेयरहोल्डर को मिलती है बुक वैल्यू को शेयर होल्डर्स फंड या Equity भी कहते हैं |

शेयर बाजार में PB रेशियो को मालूम करने का एक सूत्र या फार्मूला होता है जिसे नीचे लिखा गया है

PB Ratio= Price Of Share / Price Of Book Value

जैसे जैसे आप शेयर बाजार में प्रवेश करते जाएंगे उतना ही सीखते जाएंगे जैसे आप मेरे साथ सीख रहे हैं कि P/B or P/E रेशियो क्या है?

साधारण शब्दों में अगर आप कंपनी की कुल मार्केट कीमत और उसके पास मौजूद सभी शेयर को आपस में विभाजित कर देंगे तो आपको P/B रेशियो ज्ञात हो जाएगी |

कई सारे नए इनवेस्टर सिर्फ किसी कंपनी के P/B रेशियो को देखकर ही उसके शेयर खरीद लेते हैं जिससे उन्हें भविष्य में काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है इसलिए कंपनी का fundamental analysis आना भी बेहद जरूरी है

P/B रेशियो ज्ञात करते समय निम्न बातों का ध्यान अवश्य रखें

कई कंपनियां ऐसी होती है जो बुक वैल्यू को बेहतर दिखाने के लिए अपनी तरफ से ज्यादा वैल्यू भी जोड़ देते है. जिस वैल्यू की हमें कोई जरुरत नहीं होती है|

इसलिए आप जब भी किसी कंपनी की बुक वैल्यू को देखे तो उस तरीके से जिसपर आपको भरोसा हो जिससे सही value मिले.

यहां मैं एक बात अवश्य जोड़ना चाहूँगा जो मैं भी स्टॉक खरीदते समय ध्यान में रखता हूं  कि 

P/B Ratio का उपयोग कठोर प्रोडक्ट को बनाने बाली कंपनियों इंफ्रास्ट्रक्चर, रियलएस्टेट,रिलायंस, टाटा आदि बड़ी कंपनियों में उपयोग करे. यदि आप किसी सॉफ्टवेर कंपनी में P/B Ratio का उपयोग करेंगे तो आप सही निर्णय नहीं ले सकेंगे.

PB रेशियो की मदद से हम ज्ञात कर सकते हैं कि कोई कंपनी undervalued या overvalued तो नहीं है |

हम सीख रहे हैं P/B or P/E रेशियो क्या है? मैं उम्मीद करता हूं कि आप PB Ratio को काफी बेहतर समझ चुके होंगे|

P/E Ratio :–

P/E रेशियो जिसका पूरा नाम प्राइस टू अर्निंग रेशियो होता है

यह रेश्यो हमें बताता है कि कोई शेयर कितने महंगे या सस्ते दामों पर मिल रहा है। बहुत ऊंचे वैल्यूएशन पर कभी भी शेयर मत खरीदें।

व्यक्तिगत तौर पर मैं कभी भी 20 या 25 के P/E रेश्यो के ऊपर के शेयर नहीं खरीदता हूं, चाहे वह किसी भी कंपनी या सेक्टर के हो वहीं मैं आपको भी ऊंचे वैल्यूएशन पर स्टॉक्स खरीदने से बचने की सलाह देना चाहूँगा|

PE Ratio एक ऐसा अनुपात है जो यह बताता है कि आपको किसी कंपनी में 1 रुपये कमाने के लिए कितना प्राइस देना पड़ता है.

इस अनुपात को देखकर आप पता लगा सकते हैं कि एक ही सेक्टर की दो कंपनियों में से आपको किसमें पैसा निवेश करना चाहिए.

PE रेशियो calculate करने का तरीका:—

पीई रेश्यो को कैलकुलेट करने के लिए हम किसी कंपनी के करंट शेयर प्राइस को उसके EPS यानी अर्निंग पर शेयर (Earning per share) से डिवाइड करते हैं।

P/E Ratio के प्रकार | Types of PE Ratio

आमतौर पर पीई रेश्यो दो प्रकार के होते हैं। ये दोनों कंपनी की आय की प्रकृति पर निर्भर करते हैं।

(i) Forward P/E Ratio

जैसा की इस रेश्यो के नाम से ही पता चल रहा हैं ये पीई रेश्यो कंपनी की Future earning के अनुमान के आधार पर निकाला जाता हैं। इस पीई को कंपनी की शेयर प्राइस में कंपनी की भविष्य की अनुमानित आय (Estimated earning) का भाग देकर निकाला जाता हैं।

कंपनी की अनुमानित ग्रोथ और अनुमानित आय का प्रयोग किये जाने के कारण ये पीई रेश्यो इतना विश्वसनीय नहीं होता।

(ii) Trailing P/E Ratio

इस पीई रेश्यो को किसी कंपनी की Past Earnings के आधार पर निकाला जाता हैं। ये पीई रेश्यो अधिक सटीक होता हैं जो कंपनी की वास्तविक स्थिति बताता हैं। इस कंपनी की करंट मार्केट प्राइस में पास्ट अर्निंग का भाग लगाकर ज्ञात किया जाता हैं।

Share Market in hindi–शेयर मार्केट क्या है ?

आपने जाना कि P/B or P/E रेशियो क्या है? तो चलिए अब मैं आपको बताता हूं:-

Top 03 कंपनियां जिनमे Long term investment करना एक बेहतर विकल्प हो सकता है :—

Tata Consultancy

P/B or P/E रेशियो क्या है?
Best PE/PB

Relaince

P/B or P/E रेशियो क्या है?
Best for long term investment

HDFC BANK LTD

HDFC Bank share
Best in banking sector


PE Ratio कितना होना चाहिए?

PE Ratio जितना कम हो उतना बेहतर स्टॉक माना जाता है| जिन कंपनी का PE Ratio 30 से कम होता है उन्हें बेहतर कंपनी माना जाता है |


अच्छा पीबी अनुपात क्या है?

परंपरागत रूप से, 1.0 से नीचे का एक पीबी अनुपात, एक अंडरवैल्यूड स्टॉक का संकेत माना जाता है। कुछ मूल्य निवेशक और वित्तीय विश्लेषक भी 3.0 के तहत किसी भी मूल्य को एक अच्छा पीबी अनुपात मानते हैं |

PE Ratio कैसे निकाले?

P/E Ratio उसे कहते हैं जिसे प्रति शेयर बाजार मूल्य में उसके द्वारा दी गई आय के द्वारा भाग देने पर जो प्राप्त होता है वही P/E Ratio है।इस P/E Ratio का मतलब यह हुआ कि आपको ₹ 1 कमाने के लिए रिलायंस कंपनी में ₹10 लगाना पड़ेगा।

क्या 30 एक अच्छा पीई अनुपात है?

जी हां 30 से कम के PE अनुपात को अच्छा माना जाता है |

शेयर प्राइस कौन सेट करता है?

स्टॉक की कीमतें आपूर्ति और मांग की शक्तियों पर निर्भर हैं।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Scroll to Top