SEBI (Security And Exchange Board Of India) In Hindi

अगर आप शेयर बाजार के बारे मे जानते हैं तो आपके दिमाग में जरूर ये बात आयी होगी कि आखिर शेयर बाजार को नियंत्रित कौन करता है तो चलिए दोस्तों आज आप इसी बारे मे जानेंगे की आखिर SEBI (Security And Exchange Board Of India) In Hindi है क्या और करता क्या है |

नमस्कार दोस्तों!!!

मैं आपका होस्ट एंड दोस्त राज ठाकुर एक बार फिर से आप सब के मेरे इस नए पोस्ट पर हार्दिक स्वागत करता हूं जहां आज आप शेयर बाजार नियंत्रण बोर्ड सेबी के बारे मे जानेंगे |

SEBI की स्थापना कब हुई :-

12 अप्रैल 1992

SEBI के संस्थापक कौन है :-

Govt.of India

SEBI का मुख्यालय कहाँ है :-

मुंबई,महाराष्ट्र |

SEBI की स्थापना क्यों की गई :-
  • 1970 के आखिर और 1980 के दशक के शुरुआत के दौरान भारतीय पूंजी बाजार में काम करना पसंद करने लगे थे क्योंकि बाजार में रुझान का माहौल था। और बहुत सारे गैर सरकारी काम खुलेआम बिना किसी डर के होने लगे |
  • शेयर बाजार में घोटाले होने लगे |
  • लोग शेयर बाजार में गैर कानूनी तरीके से पैसे कमाने लगे
  • और सबसे बड़ी वज़ह 1990 के दशक में हुआ हर्षद मेहता का घोटाला जिसने सरकार की कमियों को जग जाहिर कर दिया |
  • जिसके चलते आखिरकार 1992 में सरकार ने सेबी की स्थापना कर दी|
SEBI के कुल सदस्य कितने हैं :-
  • सेबी में कुल 09 सदस्य होते हैं |
  • जिसमें 01 अध्यक्ष और 08 अन्य सदस्य होते हैं |
  • अध्यक्ष का चुनाव भारत सरकार द्वारा किया जाता है |
  • बाकी 04 सदस्य पूर्णकालिक सदस्य होते हैं जिनका चुनाव भी सरकार करती है |
  • इसके अलावा 04 अंशकालिक सदस्य होते हैं |
  • अंशकालिक सदस्यों में से 02 का चुनाव वित्त मंत्रालय करता है और 01 कानून का जानकार होता है |
  • बाकी 01 सदस्य का चुनाव RBI द्वारा किया जाता है |
SEBI के वर्तमान सदस्यों के नाम :-
  • सुश्री माधवी पुरी बुच. अध्यक्ष
  • S.K मोहंती. पूर्णकालिक सदस्य
  • अनंत बरूआ. पूर्णकालिक सदस्य
  • अश्विनी भाटिया. पूर्णकालिक सदस्य
  • अनंत नारायण. पूर्णकालिक सदस्य
  • अजय सेठ. अंशकालिक सदस्य
  • मनोज गोहिल. अंशकालिक सदस्य
  • S. राजेश्वर राव. अंशकालिक सदस्य
  • रवि अंशुमान. अंशकालिक सदस्य
SEBI के कार्य :-
  • सेबी के यू तो बहुत सारे कार्य होते हैं पर उनमे से मुख्य रूप से तीन कार्य हैं जो निम्नलिखित हैं :-
  • सुरक्षात्मक कार्य (security task)
  • नियामक कार्य (Regulatory task)
  • विकास कार्य (development task)
  • सुरक्षात्मक कार्य (Protective Functions)
  • सेबी ये सब कार्य अपने निवेशकों के हितों की रक्षा और किसी भी तरह के गैर कानूनी कार्यों को रोकने के लिए करती है |
  • इसके मुख्य अन्य कार्य निम्नलिखित हैं :-
  • शेयर बाजार में हेरा फेरी को रोकना
  • दलालों पर नियंत्रण रखना |
  • निवेशकों को जागरूक करना |
  • धोखाधड़ी को रोकना और जागरूकता कार्यक्रम चलाना |
  • नियामक कार्य(Regulatory Functions)
  • वित्तीय बाजार में व्यापार पर नियंत्रण रखना |
  • शेयर बाजार और अन्य वित्तीय व्यापार के लिए आचार संहिता को बनाना |
  • एक्सचेंजों की पूछताछ करना और लेखा परीक्षा नियंत्रित करना
  • दलालों,मर्चेंट आदि पर व्यापार शुल्क लगाना |
  • विकास कार्य(Development Functions)
  • निवेशकों और दलालों को शिक्षण देना |
  • निष्पक्ष व्यापार को बढावा देना |
  • लोगों को शेयर बाजार से संबधित प्रशिक्षण देना |
  • ब्रोकर के माध्यम से mutual fund को प्रोत्साहन देना |
SEBI की शक्तियां :-
  • अर्ध-न्यायिक शक्ति( Quasi-Judicial):
  • सेबी के पास शेयर बाजार की धोखाधड़ी और अन्य अनैतिक व्यवहार से संबंधित निर्णय जारी करने का अधिकार है।
  • सेबी प्रतिभूति बाजार की निष्पक्षता,स्वतंत्रता और जवाबदेही में योगदान देता है।
  • द्वितीय अर्ध-कार्यकारी( Quasi-Executive):
  • सेबी के पास कई कानून और न्यायिक निर्णयों को लागू करने के साथ-साथ अदालत में उल्लंघनकर्ताओं का पीछा करने का अधिकार है।
  • इसके अलावा यदि कोई कानूनन उलंघन करता है तो उसके साथ कागजी कार्रवाई की जा सकती है |
  • अर्ध-विधायीसेबी ( Quasi-Legislative):
  • सेबी अपने ग्राहकों के हितों की रक्षा के लिए नियम और विनियम बनाने की क्षमता रखता है।
  • इन पर लागू होने वाले नियमों में वे हैं जो इनसाइडर ट्रेडिंग, लिस्टिंग जिम्मेदारियों और प्रकटीकरण आवश्यकताओं को नियंत्रित करते हैं।
SEBI अधिनियम 1992 :-
  • सेबी 1992 से पहले एक गैर सरकारी संस्था थी जो शेयर बाजार पर नियंत्रण रखती थीं लेकिन 1992 के Act के अंतर्गत इसे पूर्ण मान्यता दी गई |
  • इस act के अंतर्गत आने वाले मुख्य पहलू है:-
  • सेबी बोर्ड के सदस्यों के काम बांटना |
  • सेबी के सदस्यों की सरंचना तैयार करना |
  • सेबी के फंड स्त्रोतों पर नियंत्रण रखना |
  • ● एंटी-मनी लॉन्डरिंग से जुड़े कानून बनाना |
  • ● सेबी के न्यायिक पहलुओं को तैयार और परिभाषित करना |`
  • ● केंद्र सरकार के साथ मिलकर शेयर बाजार से संबंधित कानून तैयार करना |
  • कर्मचारी स्टॉक ऑप्शन स्कीम की शुरुआत की गयी
  • इन्वेस्टर प्रोटेक्शन मानदंड तैयार किया गया |
  • ● विदेशों में ट्रेडिंग टर्मिनल शुरू करना भी सेबी का ही काम माना गया |
  • ● सिक्योरिटीज़ की लिस्टिंग और डिलिस्टिंग
  • फ्रॉड लोगों और संस्थाओं पर कानूनी कार्यवाही करती है सेबी
SEBI Website :-

https://www.sebi.gov.in/

SEBI के उद्देश्य :-

सेबी के यूँ तो कई लक्ष्य है पर कुछ महत्वपूर्ण निम्नलिखित हैं :-

  1. अपने निवेशकों को सुरक्षा देना(Protection to the investors)

प्राथमिक सेबी का उद्देश्यमें लोगों के हितों की रक्षा करना शेयर बाजार और उनके लिए एक स्वस्थ वातावरण प्रदान करना है।

  1. कदाचार की रोकथाम(Prevention of malpractices)

यही कारण था कि सेबी का गठन किया गया था। मुख्य उद्देश्यों में, कदाचार को रोकना उनमें से एक है।

  1. निष्पक्ष और उचित कामकाज(Fair and proper functioning)

सेबी पूंजी बाजारों के व्यवस्थित कामकाज के लिए जिम्मेदार है और वित्तीय मध्यस्थों जैसे दलालों, उप-दलालों, आदि की गतिविधियों पर कड़ी निगरानी रखता है

Mutual fund के लिए SEBI के दिशानिर्देश :-
  • कोई भी इनवेस्टर किसी भी म्यूचुअल फंड की परिसंपत्ति प्रबंधन व्यवसाय का 10% या उससे अधिक का स्वामित्व प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से नहीं रख सकता है।
  • किसी भी mutual fund के सूचकांक के शीर्ष तीन घटकों का भार मिलाकर 65प्रतिशत से अधिक नहीं हो सकता।
  • सूचकांक के किसी भी एक सदस्य को कम से कम 80% समय पर व्यापार करना अनिवार्य है |
  • हर कैलेंडर quarter के अंत में, AMC को मानकों की जांच करनी चाहिए |
  • कोई भी कंपनी एक नया फंड लॉन्च करने से पहले, सेबी को सूचित करेगी |
  • एक डेट म्युचुअल फंड कंपनी अपनी संपत्ति का मात्र 20% तक ही किसी एक क्षेत्र में निवेश कर सकते है, जो पहले 25% था।
  • लिक्विड प्लान में जो इनवेस्टर सात दिनों के अंदर प्लान को छोड़ देते हैं, उन्हें एक्जिट पेनल्टी का सामना करना पड़ता है |
SEBI के वर्तमान अध्यक्ष :-

सुश्री माधवी पुरी बुच

मैं उम्मीद करता हूं आपको यह पोस्ट SEBI (Security And Exchange Board Of India) In Hindi काफी पसंद आयी होगी और आपने जरूर कुछ ना कुछ नया सीखा होगा |

सेबी के कितने सदस्य होते हैं?

सेबी के कुल 09 सदस्य होते हैं जिसमें 01 अध्यक्ष और 08 अन्य सदस्य होते हैं |

सेबी प्राइवेट है या सरकारी?

1992 से पहले सेबी गैर सरकारी थी लेकिन 1992 act के बाद यह पूर्ण सरकारी बन गयी |

सेबी का मुख्यालय क्या है?

मुंबई, महाराष्ट्र

सेबी कब लागू हुआ?

30 जनवरी 1992

सेबी क्यों बनाया गया था?

शेयर बाजार में धोखाधड़ी रोकने के लिए |

SEBI का पूरा नाम क्या है

S. SECURITY
E. AND EXCHANGE
B. BOARD OF
I. INDIA

सेबी का वर्तमान अध्यक्ष कौन है

माधवी पुरी बुच |

भारत में सेबी को कौन नियंत्रित करता है?

सेबी में शामिल 09 सदस्यों द्वारा |

शेयर बाजार से संबंधित अन्य पोस्ट पढ़ें :-

एंजेल वन | Best Broker in India

Upstox | Best Broker in hindi

ब्रोकर क्या होता है |Best Broker in india

Demat Account क्या होता है?

शेयर मार्केट किंग :: राकेश झुनझुनवाला

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Scroll to Top