What is Sensex in hindi

BSE यानि बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के इंडेक्स को हम Sensex के नाम से जानते हैं |तो चलिए आज मैं आपको बताऊँगा What is Sensex in hindi जो आपको शेयर बाजार में बेहतर कंपनिया ढूँढने और उनमे निवेश करने में बेहद मदद करेगा |

नमस्कार दोस्तों!!!!!

आप सब का हार्दिक स्वागत है मेरे इस नए ब्लॉग पर जहां आप जानेंगे sensex के बारे मे |

अगर आप शेयर बाजार में दिलचस्पी रखते हैं तो आपने जरूर सेंसेक्स का नाम सुना होगा और आप सेंसेक्स के बारे मे गहराई से जानने के लिए ही इस पोस्ट पर आयें होंगे |

मुझे उम्मीद है कि आप इसमे कुछ ऐसा जानने वाले हैं जो शायद ही आपने पहले पढ़ा हो |



सेंसेक्स
What is Sensex in hindi
Sensex 30


सेंसेक्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज जिसे हम BSE के नाम से भी जानते हैं उसका सूचकांक है। सेंसेक्स के इंडेक्स में 13 अलग अलग सेक्टर मार्केट केप के आधार पर देश की टॉप 30 सबसे बड़ी कंपनियों को इंडेक्स किया जाता है। इसमें रिलायंस, टाटा, HCL, हिंदुस्तान यूनीलिवर,और भारती एयरटेल जैसी.कई बड़ी कंपनियां शामिल हैं।


स्थापना वर्ष:-


सेंसेक्स की स्थापना 1 जनवरी 1986 में की गई थी। इसमें कुल 30 कंपनियां शामिल होती हैं। इस कारण इसको सेंसेक्स 30 के नाम से भी जाना जाता है। इसके उतार चढ़ाव से पता चलता है कि देश की बड़ी कंपनियों और शेयर बाजार की वर्तमान मे क्या स्थिति है?


Sensex Full form:-


सेंसेक्स का पूरा नाम एक्सचेंज सेंसिटिव इंडेक्स (Stock Exchange Sensitive Index) है। सेंसेक्स में हो रहे उतार चढ़ाव का फाइनल दृष्टिकोण उसमें इंडेक्स 30 कंपनियों के शेयर के भाव के गिरने और उठने से लगाया जाता है।

सेंसेक्स के बढ़ने से हमें पता चलता है कि देश की 30 बड़ी कंपनियों का और शेयर बाजार का विकास हो रहा है। इन कंपनियों के विकास से देश में रोजगार के भरपूर अवसर बढ़ते हैं। इस कारण देश की उत्पादन क्षमता में भी तेजी देखने को मिलती है।



सेंसेक्स देश का सबसे पुराने स्टॉक एक्सचेंज में से एक है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना भी सेंसेक्स के बाद ही हुई थी। वर्तमान समय में इसकी वैल्यू 59,832 पर चल रही है।

सेंसेक्स बनता कैसे है?


आगे हम जानेंगे की Sensex बनता कैसे है और इसे कौन बनाते हैं |इसके बनने की प्रक्रिया को अब आप समझेंगे।


जैसे की हम अच्छी तरह से जानते है की सेंसेक्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (Bombay Stock Exchange) का एक हिस्सा है और सेंसेक्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड केवल 30 कंपनियों के शेयर्स के Price से मिलकर बन हुआ होता है जबकि बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में मौजूद कुल कंपनियों की संख्या 5900 से भी ज्यादा है।


जब हम सेंसेक्स की गणना करते हैं तो उसमें केवल टॉप 30 कंपनी जो की मार्केट में प्रमुख है उनके ही शेयर्स को शामिल करते है। इन 30 कंपनियों के शेयर के भावो को शामिल करने का मुख्य कारण सिर्फ यहि है कि इन 30 कंपनियों के शेयर्स सबसे ज्यादा ख़रीदे व बेचे जाते है।



वहीं दूसरा की यह 30 सबसे बहुत बड़ी कंपनीयाँ होती है इनका मार्केट कैप स्टॉक एक्सचेंज में सूचिबद्ध सभी शेयर्स का लगभग आधा होता है जो की एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। तीसरा मुख्य कारण य़ह है की ये 30 कम्पनीयाँ 13 भिन्न भिन्न सेक्टर से चुनी गयीं होती है और 30 कंपनियां अपने सेक्टर में सबसे बड़ी होती है।


इन 30 कंपनीयों को स्टॉक एक्सचेंज की इंडेक्स कमिटी द्वारा चुना जाता है इस कमिटी में लगभग हर वर्गों से लोग शामिल होते है जिनमे मुख्य रूप से सरकार, बैंक और कयी अर्थशास्त्री भी शामिल होते है।


यदि आप शेयर बाजार में अपने पैसे निवेश करना चाहते हैं तब ऐसे में आप सबसे बेहतर Broker “Zerodha” से अपना account बना सकते हैं. इसमें आप बहुत ही जल्द और आसानी से Demat Account खोल सकेंगे और उसमें शेयर भी खरीद सकते हैं. मैंने निचे इसकी link दी है।


Zerodha

आप पढ़ रहे हैं What is Sensex in hindi


आखिर Sensex कैसे घटता या बढ़ता है?


सेंसेक्स का काम ही हमें शेयर की जानकारी प्रदान करना होता है। यह अपने नीचे आने वाली 30 कंपनियों के शेयरों में हो रहे उतार-चढ़ाव पर नजर रखता है। अगर सेंसेक्स में लिस्टेड

कंपनियों के बाजार में शेयरों के मूल्य बढ़ रहे हैं तो सेंसेक्स का प्राइस भी बढ़ जाता है और ऊपर चला जाता है।

वहीं अगर सेंसेक्स कि top 30 कंपनियों की बाजार में शेयरों के मूल्य गिर रहे होते है तो सेंसेक्स का प्राइस भी गिरने लगता है।


मुख्य 30 कंपनियों का चुनाव कैसे किया जाता है?


इंडेक्स कमिटी सेंसेक्स में सम्मिलित करने के लिए 30 कंपनीयों के चुनाव के वक़्त निम्नलिखित बातों का ध्यान रखती है:-

1) वह कंपनी कम से कम 1 साल या उस से ज्यादा समय से स्टॉक एक्सचेंज पर सूचिबद्ध हो।

2) वह कंपनी पिछले एक साल के अंदर जितने दिन भी शेयर बाजार खुला रहता है, उन सभी दिनो में उस कम्पनी के स्टॉक खरीदे व बेचे जाना अनिवार्य होता है।

3) हर दिन की average ट्रेड की वॉल्यूम और वैल्यू के हिसाब से वो कंपनियाँ देश की सबसे बड़ी 150 कंपनीयों में जरूर होनी चाहिए।

यही वो मुख्य बातें है जो कि लिस्टिंग के लिए इंडेक्स कमिटी द्वारा ध्यान में रखी जाती है।

सेंसेक्स के मुख्य फायदे


सेंसेक्स का सबसे बड़ा फायदा यही है की इसके जरिये इनवेस्टर बाजार में होने वाले आगामी परिवर्तनो को जान सके और समझ सके और उनके हिसाब से पैसा ठीक तरीके से इनवेस्ट कर सके।



1) जब सेंसेक्स में कुछ कंपनिया ऊपर जाती हैं तो निवेशक भी ऐसी कंपनियों में पैसा लगाना चाहते है और जब निवेशकों से काफी सारा पैसा इकट्ठा हो जाता है तो कंपनियां grow करती है और आकार मे बढ़ती है।


2) जब शेयर बाजार ठीक होता है और सेंसेक्स ऊपर बढ़ता है तो देश में बहुत से विदेशी निवेशक आने लगते है और जब वो भारतीय कंपनियों में पैसा लगाते है तो इससे रुपये में तेजी आएगी। और रुपया विदेशी मुद्रा के मुक़ाबले में और मजबूत होता है।


निष्कर्ष:-


भारतीय शेयर बाजार लगातार ऊंचाइयों की तरफ बढ़ रहा है एक समय था जब इसकी शुरुआत हुयी 1990 में तब सेंसेक्स की कीमत एक हजार हुआ करती थी पर आज के समय में यह आंकड़ा पांच अंकीय संख्या तक पहुँच गया है आज के समय में यह 59000 को पार कर चूका है और हर दिन नए कीर्तिमान रच रहा है ।

Sensex 30 में लिस्टेड कंपनियां 2023

S.no. WEIGHT(%) Name. 1. 11.80 Reliance Inds.

2. 10.63 HDFC Bank

3. 9.18 ICICI Bank

4. 7.62 Infosys

5. 7.16 HDFC

6. 5.05 ITC

7. 4.92. TCS

8. 3.91. L&T Construction

9. 3.60. Kotak Mahindra

10. 3.53. Axis Bank

11. 3.43. HUL

12. 3.01. SBI Bank

13. 2.75. Bharti Airtel

14. 2.24. Bajaj Finance

15. 1.87. Asian paints

17. 1.72 M&M Cars

16. 1.66 HCL Tech

18. 1.65. Maruti Suzuki

19. 1.59. Sun Pharma

20. 1.57. Titan

21. 1.32. UltraTech Cement

22. 1.26. Tata Steel Iron

23. 1.24. NTPC

24. 1.16 Power Grid

25. 1.15. Bajaj Finserv

26. 1.06. Nestle India

27. 1.04. IndusInd Bank

28. 1.03. Tech Mahindra

29. 0.84. Dr Reddy’s Labs

30. 0.81. Wipro

आशा करता हूं ये पोस्ट What is Sensex in hindi आपको पसंद आयी होगी अगर पसंद आयी तो दोस्तों के साथ भी साझा करें |वहीं अगर कोई सुझाव हो तो कमेन्ट करके जरूर बताएँ |

सेंसेक्स कितने बजे खुलता है?

सेंसेक्स आमतौर पर 0900 AM बजे खुलता है |

भारत में कुल कितने शेयर बाजार?

भारत मे मान्यता प्राप्त 23 शेयर बाजार हैं और इन्हें ये मान्यता SEBI देती है |

शेयर मार्केट में 1 दिन में कितना कमा सकते हैं?

ये आपकी स्किल और रिस्क लेने की क्षमता पर निर्भर करता है |आप जितना ज्यादा रिस्क उठा सकते हो उतना ही ज्यादा कमाने के अवसर बनते हैं |

भारत में शेयर बाजार कौन चलाता है?

भारत मे शेयर बाजार का संचालन SEBI द्वारा किया जाता है | जिसका पूरा नाम भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) है |

शेयर बेचने के बाद पैसा कब आता है?

शेयर बेचने के 2 दिनों बाद पैसे आपके अकाउंट में पहुँचते हैं |

संबंधित पोस्ट भी पढ़े:-

List of NSE Nifty 50 Stocks

Top Banking Sector Stocks in India

Top 10 Stocks for Long term investment in hindi

Intraday ट्रेडिंग ओर Delivery ट्रेडिंग क्या होती है?

NSE और BSE क्या है?

शेयर मार्केट में प्रयोग होने वाली शब्दावली top 40

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Scroll to Top